SHARE
Happy Women's Day GenXSentinel
Happy Women's Day GenXSentinel

भारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व दिया गया है। संस्कृत में एक श्लोक है- ‘यस्य पूज्यंते नार्यस्तु तत्र रमन्ते देवता:। अर्थात्, जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं। किंतु वर्तमान में जो हालात दिखाई देते हैं, उसमें नारी का हर जगह अपमान होता चला जा रहा है। उसे ‘भोग की वस्तु’ समझकर आदमी ‘अपने तरीके’ से ‘इस्तेमाल’ कर रहा है। यह बेहद चिंताजनक बात है। लेकिन हमारी संस्कृति को बनाए रखते हुए नारी का सम्मान कैसे किया जाए, इस पर विचार करना आवश्यक है।

एक बहुत ही लोकप्रिय कहावत है कि हर कामयाब आदमी के पीछे एक औरत का हाथ होता है। इस महिला की कहानी बिल्कुल की अलग होती है वह अपने पति, बेटे और बच्चों के साथ मजबूती से खड़ी रहती है। इस सबके बावजूद महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बना रही है। वहीं महिलाओं के सम्मान में हर साल 8 मार्च को इंटरनेशनल वुमेन्स डे मनाया जाता है। इंटरनेशनल वुमेन्स डे पूरे विश्व में खुशी और उल्लास के साथ मनाया जाता है। महिलाओं को उनके जीवन साथी इस दिन उन्हें इस दिन की शुभकामनाएं देते हैं। बेटियों, बहनों, माताओं, पत्नी के अलावा इस दिन सभी महिलाओं को पुरुष सम्मानित करते हैं।

इंटरनेशल वुमेन्स डे एक ऐसा दिन है जिस दिन हर महिला सम्मान की हकदार होती है। कई जगहों पर इस महिलाओं के लिए छुट्टी घोषित होती है। वहीं आॅफिस और संस्थान में काम करने वाली महिलाओं के कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसमें महिला भी भाग लेती हैं। तो महिलाओं के सम्मान के लिए आप भी इन खास संदेशों के साथ अपने जीवन में महत्व रखने वाली महिलाओं को इस दिन की शुभकामनाएं दें सकते हैं।

इंटरनेशनल वुमेन्स डे की कहानी

महिला दिवस Women Day History: सन 1975 में इंटरनेशनल वूमेन्स डे को यूनाइटेड नेशन में पहचान मिली, जिसके बाद हर साल एक थीम के साथ मनाया जाने लगा।

इंटरनेशनल वुमेन्स डे या अतंरराष्ट्रीय महिला दिवस हर साल 8 मार्च को मनाया जाता है। इस दिन अलग-अलग क्षेत्रों में काम कर रही महिलाओं को सम्मान देने के साथ उनकी सफलता के रुप में मनाया जाता है। अगर आजकल की लड़कियों को देखे तो वह हर क्षेत्र में बाजी मार रही हैं। किसी समय में महिलाओं को कमजोर समझा जाता था मगर आज उन्हें हर क्षेत्र में आगे बढ़ते हुए देखा जा सकता है। महिलाओं की इसी सफलता को देखते हुए इंटरनेशनल वुमेन्स डे मनाया जाता है। 8 मार्च को पूरे विश्व में इंटरनेशनल वुमेन्स डे मनाया जाता है। हालांकि इसकी शुरूआत कब हुई इस बारें में कुछ भी सही ढंग से बताया नहीं जा सकता है। कहा जाता है कि 1908 में 15 हजार महिलाओं ने मिलकर न्यूयॉर्क में वोट डालने के अधिकार, अच्छी सैलरी और काम करने के घंटों को लेकर मार्च निकाली थी।

8 मार्च को इंटरनेशनल वुमेन्स डे इतिहास में महिलाओं द्वारा किए की गई उन्नति के उपलक्ष में मनाया जाता है। एक महिला को पाज़िटिविटी, धैर्य और अपने दृढ़ निश्चय के लिए जाना जाता है। समाज के निर्माण में भी महिलाओं का अहम योगदान है। इंटरनेशनल वुमेन्स डे जेंडर इक्वालिटी को ध्यान में रखकर मनाया जाता है। इसके अंतर्गत वुमेन इंपावरमेंट और महिलाओं के अधिकार आते हैं। किसी ने सही कहा कि हर कामयाब इंसान के पीछे एक महिला का हाथ होता हैं। इंटरनेशनल वुमेन्स डे हर साल एक नई थीम के साथ मनाया जाता है। इस थीम के पीछे कारण होता है महिलाओं द्वारा किए जा रहे संघर्ष की ओर ध्यान खींचना और उसके प्रति जागरुक बनाना। सबसे पहले यह दिन अमेरिका में सोशलिस्ट पार्टी के आह्वान पर 28 फ़रवरी 1909 को मनाया गया था। बाद में इसे फरवरी के आखिरी रविवार को मनाया जाने लगा।  सन 1910 में वूमेन्स आॅफिस की लीडर कालरा जेटकीन नाम की महिला ने जर्मनी में इंटरनेशनल वूमेन डे का मुद्दा उठाया। उन्होंने सुझाव दिया कि हर देश को एक दिन महिला को बढ़ावा देने के रूप में मनाना चाहिए।  पहले इंटरनेशनल वुमेन्स डे को अधिकारिक तौर पर 1911 में पहचान मिली थी। इस साल हम 106वां अतंरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने जा रहे हैं।

वुमेन्स डे की सभी महिलाओंको GenXSentinel  की पूरी टीम की ओरसे बहोत बहोत शुभकामनाएं।

LEAVE A REPLY