SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार के पास साहसिक निर्णय जैसे किसानों के लिए न्यूतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लेने का साहस था जिससे पिछली सरकार से अलग भारत के एक नए पथ पर आगे बढ़ा।

उन्होंने कहा कि 2014 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सत्ता में आने के बाद दुनिया में भारत की साख कई मामलों में कई गुना बढ़ गई क्योंकि हमारे पास साहसिक फैसले लेने की समझ है।

मोदी ने 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश को संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया भर में संस्थानों और आर्थिक वैज्ञानिकों ने भारत को ‘जोखिम भरे अर्थव्यवस्था’ के रूप में उल्लेख किया लेकिन आज वही संस्थान और वही व्यक्ति आत्मविश्वास से कह रहे हैं कि सुधारों ने भारत को एक नई गति और मजबूत मौलिक सिद्धांत दिया है।

अगले साल आम चुनाव से पहले अपने पांचवें और अंतिम स्वतंत्रता दिवस के भाषण में मोदी ने कहा कि देश को पहले दुनिया की पांच कमजोर अर्थव्यवस्थाओं में गिना जाता था लेकिन आज भारत निवेश के लिए अरबों डॉलर का गंतव्य है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “वे कहते हैं कि सोता हाथी जाग गया है और उसने चलना शुरू कर दिया है। भारत अगले तीन दशकों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था को मार्गदर्शन और गति देने जा रहा है।”

LEAVE A REPLY